Breaking News

Today Click 137

Total Click 3275633

Date 20-09-17

स्वाइन फ्लू के कहर से हो रही मौतें, बाजार से खत्म हो रही दवाएं

By Mantralayanews :08-09-2017 10:15


दुर्ग/बालोद/ रायपुर। राज्य में स्वाइन फ्लू का कहर जारी है। गुरुवार को दुर्ग और बालोद में एक-एक मौत के साथ राज्य में मौतों का सरकारी आंकड़ा 26 पहुंच गया है। दूसरी तरफ इस जानलेवा रोग से निपटने के लिए दवाइयां बाजार में खत्म हो गई हैं। इससे मरीज और निजी चिकित्सक व नर्सिंग होम संचालक परेशान हैं।

इधर गुरुवार को स्वाइन फ्लू से दुर्ग और बालोद में दो महिलाओं की मौत हो गई। दुर्ग में स्वाइन फ्लू से यह 12वीं व बालोद में चौथी मौत है। बीएसपी सेक्टर-9 अस्पताल में दाखिल रिसाली मैत्रीकुंज निवासी लीलावती देवी (77) की मौत गुरुवार को हुई। इन्हें 3 दिन पहले भर्ती किया गया था।

इसी प्रकार बालोद के डौंडी ब्लॉक के कामता की स्वाइन फ्लू पीड़ित अमरबती कोठारी (40) की भिलाई के स्पर्श अस्पताल में मंगलवार की रात मौत हो गई। सीएमएचओ बालोद जीके चौबे ने बताया कि स्पर्श के डॉक्टरों ने अमरबती की मौत को स्वाइन फ्लू से होना बताया है। गुरुवार को दुर्ग में 8 मरीजों को स्वाइन फ्लू के संदेह पर अलग-अलग अस्पताल में भर्ती किया गया है।

राजधानी में भी स्वाइन फ्लू का कहर कम नहीं हो रहा। मरीज हलकान हैं। कुछ ऐसे मरीज हैं, जिन पर टेमी फ्लू का डबल डोज भी बेअसर साबित हो रहा है। लोग सर्दी-खासी में टेमीफ्लू दवा खा रहे हैं तो वहीं सावधानी के तौर पर वैक्सीन लगवा रहे हैं। अकेले रायपुर में रोजाना मेडिकल स्टोर से 100 स्ट्रिप टैमी फ्लू (1हजार गोली), 10 वाइल से भी अधिक वाइल वैक्सीन बिक रही है।

दवा बाजार के अधिकृत विक्रेताओं के मुताबिक टेमी फ्लू का स्टॉक खत्म हो चुका है। गंभीर मरीज के लिए ही कुछ स्ट्रिप बचाकर रखी हैं। विक्रेताओं का कहना है कि मांग हफ्तेभर पहले भेजी, जवाब मिला 10 सितंबर तक आपूर्ति करेंगे। अंबेडकर अस्पताल, जिला अस्पताल में दवा पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है। रायपुर जिला मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय (सीएमएचओ) में भी दवा है।

स्वास्थ्य विभाग नहीं मान रहा निजी लैब की रिपोर्ट

निजी अस्पताल अपने मरीजों के सैंपल लालपैथ लेबोरेट्री भेजते हैं, अधिकांश मरीजों की रिपोर्ट पॉजीटिव आती है। दूसरी तरफ सरकारी अस्पताल में भर्ती संदिग्ध मरीज के सैंपल जगदलपुर सरकारी लैब में जाते हैं। ऐसी स्थिति में स्वास्थ्य विभाग निजी लैब की रिपोर्ट को मान्य नहीं कर रहा है। सीएमएचओ कार्यालय के अफसरों का कहना है कि सरकारी लैब ही पुष्टि करेगी। इसी के चलते निजी और सरकारी अस्पतालों में भर्ती पॉजीटिव मरीजों की संख्या, मौत के आंकड़ों में अंतर है।

2-3 दिन में होगी सप्लाई

टेमी फ्लू की मांग लगातार बढ़ने की वजह से स्टॉक खत्म हो चुका है, संभव है कि 2-3 दिन में सप्लाई हो जाए। मुख्य सप्लायर कंपनी ने डिपो नागपुर शिफ्ट कर लिया है, लेकिन मरीज हित में उससे खरीदी बंद नहीं कर सकते। - राजेश्वर सिंह ठाकुर, अध्यक्ष, रायपुर जिला ड्रगिस्ट एंड केमिस्ट एसोसिएशन

Source:Agency