Breaking News

Today Click 3510

Total Click 3281031

Date 21-09-17

रोगियों को दी जा रही दवा बनने से एक साल पहले ही हो गई एक्सपायर!

By Mantralayanews :12-09-2017 07:17


श्योपुर। श्योपुर जिले में मलेरिया रोगियों को जो दवाएं बांटी गई हैं वह बनने से 1 साल पहले ही एक्सपायर हो गई हैं। आरटेसुनेट नाम की किट में चार गोलियां है जो मलेरिया से ग्रसित 5 से 8 साल के बच्चों को तीन दिन में खिलाई जा रही है।

यह दवा जिला अस्पताल सहित जिलेभर के प्राथमिक और उप स्वास्थ्य केंद्रों पर मलेरिया पीड़ितों को बांटी जा रही है। इधर जिला अस्पताल में तो एक्सपायर हो चुकी दवाओं से मरीजों का इलाज किया जा रहा है। चिंता की बात यह है कि, जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी इस बात से पूरी तरह पल्ला झाड़ रहे हैं और इसके लिए सिविल सर्जन को जिम्मेदार बता रहे हैं।

आरटेसुनेट पीएच इंट. 100 एमजी नाम की यह दवा है जिस पर स्पष्ट लिखा है कि इसका निर्माण 15 अक्टूबर 2013 को हुआ है और एक्सपायरी डेट 17 अक्टूबर 2012 लिखी है। यदि इन दवाओ पर तारीख गलत प्रिंट होने में बात भी मान ली जाए तो, तीन साल में एक्सपायरी के हिसाब से भ्ाी ये टेबलेट पिछले साल 2016 में ही एक्सपायर हो चुकी हैं। इधर मलेरिया विभाग आर्टेसुनेट गोलियों की किट पर दूसरे फार्मेट में डेट होना बता रहा है। उसका कहना है कि अभी यह दवाएं तीन महीने और चलेंगी। इसके बाद एक्सपायरी हो जाएंगी।

मुंबई की कंपनी ने सप्लाई की हैं गोलियां

मलेरिया के लिए 4 गोलियों की यह आर्टेसुनेट किट मुंबई की फार्मा कंपनी एलपीसीए लैबोरेटरीज लि.चकार्ता देहरादून रजिस्ट्रेशन ऑफिस कांदविल इंडस्ट्रीज ई स्टेट मुंबई द्वार जारी की गई हैं। जिसका बैच नंबर एचएफआई 015001एके है।

जिला अस्पताल में हो रहा एक्सपायर दवाओं से इलाज

जिला अस्पताल में कई मरीजों का इलाज एक्सपायर दवाओं से किया जा रहा है। जिला अस्पताल से वयस्क मलेरिया रोगिया को जो क्लोरोक्यून फॉस्फेट टेबलेट दी जा रही है वह अक्टूबर 2014 मंे बनी है और सितंबर 2017 में उसकी एक्सपायरी डेट है। सितंबर का आधा महीना बीतने को है और मरीजों को 10 से 15 दिन तक की दवाएं दी जा रही हैं।

इनका कहना है

आरटेसुनेट गोलियां तीन महीने बाद एक्सपायर होंगी। इसे देखते हुए हमने बांटी हैं। इस पर जो एक्सपायरी डेट दी गई हैं वह दूसरे फार्मेट में है। जिसमें साल सबसे पहले है उसके बाद महीना और फिर तारीख है। 

डॉ. सुनील कुमार शर्मा मलेरिया अधिकारी, श्योपुर

-जिला अस्पताल के संबंध में आप सिविल सर्जन से बात कीजिए। वही वहां के लिए दवाएं खरीदते हैं। मैं इस संबंध में कुछ नहीं कह सकता। डॉ. एनसी गुप्ता सीएमएचओ, श्योपुर

Source:Agency