Breaking News

Today Click 3538

Total Click 3281059

Date 21-09-17

सीक्रिट हमलों से US डिप्लोमैट्स को बहरा कर रहा क्यूबा?

By Mantralayanews :13-09-2017 07:12


वॉशिंगटन... अमेरिका और क्यूबा का नया-नया रिश्ता दोबारा खटाई में पड़ता दिख रहा है। क्यूबा में मौजूद अमेरिकी अधिकारियों का दावा है कि उनके स्वास्थ्य पर गुपचुप तरीके से हमला किया जा रहा है, जिसकी वजह से कई राजनयिक में बहरापन तक देखा गया है। अब तक इन हमलों से 21 राजनयिकों के प्रभावित होने की अमेरिका ने पुष्टि की है। अमेरिकी विदेश सेवा संगठन की मानें तो यह हमले साल 2016 के आखिर में ही शुरू हो गए थे। हमलों की वजह से राजनयिकों के दिमाग में सूजन, सिर में तेज दर्द, असंतुलन और संज्ञान खोने जैसे लक्षण भी देखे गए हैं। 

अमेरिकी जांचकर्ताओं का कहना है कि उनके राजनयिकों पर सीक्रिट सॉनिक हमले किए जा रहे हैं। यानी उनके राजनयिकों को एक ऐसे अडवांस्ड डिवाइस से निशाना बनाया जा रहा है जिसकी कोई आवाज नहीं होती लेकिन वह अपने आसपास के लोगों के कानों पर बहुत बुरा असर डालता है। ऐसा माना जा रहा है कि ऐसे डिवाइस अमेरिकी राजनयिकों के घर के बाहर और अंदर छोड़ दिए गए हैं।

बीते साल बराक ओबामा प्रशासन के समय अमेरिका और क्यूबा के बीच राजनयिक रिश्ते बहाल हुए थे। जिसके बाद अमेरिकी अधिकारियों को क्यूबा भेजा गया था। 

अमेरिकी विदेश मंत्रालय का कहना है कि बीते साल ऐसे कुछ मामले सामने आने के बाद हमले रुक गए थे लेकिन इसी साल अगस्त में फिर एक मामला सामने आया था और अगस्त के आखिर में भी ऐसे हमले होने की पुष्टि हुई। नए मामलों का पता चलने के बाद अब अमेरिका का मानना है कि प्रभावितों की संख्या और बढ़ सकती है। विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हीथर नोर्ट ने कहा है कि अमेरिका अपने कर्मचारियों की जांच जारी रखेगा। 

हालिया हमले से प्रभावित दोनों अमेरिकी नागरिक देश के राजनयिक समुदाय के सदस्य थे। अधिकारियों ने इससे पहले बताया था कि इन घटनाओं में हवाना में नियुक्त राजनयिक और उनके साथ रहने वाले परिवार के सदस्य प्रभावित हुए हैं। इन घटनाओं को विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन ने 'हेल्थ अटैक' का नाम दिया था। 

अमेरिकी राजनयिकों का प्रतिनिधित्व करने वाले संघ ने कहा है कि इन हमलों से प्रभावित होने वाले राजनयिकों के मस्तिष्क में सदमे के कारण जख्म होने का पता चला है। अमेरिकी आंकलनों के मुताबिक जांचकर्ता अब भी इन हमलों के पीछे के विस्तृत कारणों का पता लगा पाने से बहुत दूर हैं। अमेरिका अबतक क्यूबा सरकार पर किसी तरह के आरोप लगाने से बच रहा है।

Source:Agency