Breaking News

Today Click 317

Total Click 3418308

Date 23-11-17

सीडी कांड में सबूत जुटाने में छूट रहा पुलिस को पसीना

By Mantralayanews :06-11-2017 07:22


रायपुर। छत्तीसगढ़ की सियासत में बवाल मचाने वाले कथित सेक्स सीडी कांड में जितनी तेज गति से विनोद वर्मा की गाजियाबाद से गिरफ्तारी रायपुर पुलिस ने की, अब उसकी जांच रफ्तार पकड़ने के बजाय धीमी हो गई है। दरअसल पुलिस के हाथ अभी तक ठोस सबूत नहीं लग पाए हैं।

पुलिस की उम्मीद विनोद के घर से जब्त 500 सीडी, पेन ड्राइव, मोबाइल और लैपटॉप की फॉरेंसिक लैब की जांच रिपोर्ट पर टिकी है। सीडी कांड की पूरी केस डायरी रायपुर पुलिस ने सीबीआई के अफसरों को सौंपा था।

मंत्री से जुड़े इस प्रकरण की जांच शुरू करने से पहले सीबीआई अफसरों ने दो दिनों तक केस डायरी का अध्ययन करने के बाद रविवार शाम को लौटा दी। सोमवार को केस डायरी पुलिस कोर्ट में पेश करेगी, जिसके आधार पर विनोद की जमानत अर्जी पर सुनवाई होगी।

सूत्रों ने बताया कि केस डायरी अध्ययन करने के बाद सीबीआई के अफसरों ने जल्द ही मामले की जांच शुरू करने के संकेत दिए हैं। पुलिस के जानकार सूत्रों की मानें तो पुलिस के पास विनोद वर्मा के खिलाफ अभी तक कोई ठोस सबूत नहीं है कि उसके आधार पर विनोद की जमानत याचिका का विरोध कर सके।

यही वजह है कि केस डायरी बाहर होने का हवाला देकर पुलिस ने कोर्ट से रविवार तक का समय मांगा था। पर्याप्त ठोस सबूत नहीं होने से पुलिस की जांच बैकफुट पर है। अब सभी की नजर आज सोमवार को कोर्ट में पेश होने वाली केस डायरी पर टिकी है।

दुकानदार को गवाह बनाने की तैयारी

आरोप है कि गाजियाबाद के लाजपत मार्केट स्थित सुपर टोन डिजिटल शॉप से विनोद वर्मा ने 500 सीडी बनवाई थी। उस दुकान से एसआईटी की टीम ने राइटर मशीन, कंप्यूटर और अन्य चीजें जब्त की हैं। इसके अलावा दुकान व आसपास की दुकानों में लगे सीसीटीवी कैमरे का वीडियो फुटेज भी पुलिस ने हासिल किया है। पुलिस का दावा है कि फुटेज में विनोद दुकान आते-जाते साफ दिखाई दे रहे हैं।

सीडी जब्त होने से आरोपी का इंकार

विनोद वर्मा ने कोर्ट में अपील अर्जी भी पेश की है, जिसमें कहा गया है कि पुलिस झूठे तथ्य के आधार पर उन्हें साजिश के तहत फंसा रही है। जिस तरह से उनके आधिपत्य से 500 सीडी जब्त करना पुलिस बता रही है। दरअसल उनके खिलाफ ठोस साक्ष्य निर्मित करने के उद्देश्य से वह सीडी पुलिस ने खुद ही बनवाई है।

विनोद ने पुलिस द्वारा जब्त मोबाइल, लैपटॉप, पेन ड्राइव से छेड़छाड़ करने की आशंका जताते हुए कोर्ट के समक्ष इन सभी को सीलबंद करवाकर उच्च जांच के लिए भेजने की गुहार लगाई है।

पंद्रह लोगों से पूछताछ, महापौर ने किया इंकार

पुलिस सूत्रों ने बताया कि अभी तक मामले में पंद्रह लोगों से पूछताछ कर उनके बयान दर्ज किए गए हैं। भिलाई के महापौर देवेंद्र यादव से भी लगातार दो दिन पूछताछ की खबर उड़ी। हालांकि देवेंद्र यादव ने इससे साफ इंकार किया है और पुलिस अफसर भी इसकी पुष्टि करने से इंकार कर रहे हैं, लेकिन यह जरूर बता रहे हैं कि सीडी बंटवाने के मामले में कुछ युवा कांग्रेसियों को पूछताछ करने तलब किया गया है।
 

Source:Agency