Breaking News

Today Click 531

Total Click 4041785

Date 16-12-18

सितंबर में औद्योगिक उत्पादन की वृद्धि दर घटकर 3.8 प्रतिशत हुई

By Mantralayanews :11-11-2017 08:05


नई दिल्ली: अर्थव्यवस्था के मोर्चे से बुरी खबर है. सरकारी आंकड़ों के अनुसार मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर के खराब प्रदर्शन के साथ साथ टिकाऊ उपभोक्ता सामान खंड में गिरावट से भी औद्योगिक उत्पादन की वृद्धि प्रभावित हुई. औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (आईआईपी) आधारित कारखाना उत्पादन सितंबर 2016 में पांच प्रतिशत बढ़ा था जबकि इस साल अगस्त में इसमें 4.5 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई थी.

केंद्रीय सांख्यिकी संगठन के आंकड़ों के अनुसार चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही में औद्योगिक उत्पादन की वृद्धि दर 2.5 प्रतिशत रही जो कि पिछले वित्त वर्ष की समान छमाही में यह 5.8 प्रतिशत थी. सितंबर महीने में मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की वृद्धि दर घटकर 3.4 प्रतिशत रह गई जो कि पिछले साल 5.8 प्रतिशत रही थी. सूचकांक में इस क्षेत्र का भारांक 77.63 प्रतिशत है. अप्रैल सितंबर के दौरान मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की वृद्धि दर 1.9 प्रतिशत रही जो कि बीते वर्ष समान अवधि में 6.1 प्रतिशत थी.

टिकाऊ उपभोक्ता सामान खंड ​का उत्पादन सि​तंबर में तुलनात्मक रूप से 4.8 प्रतिशत घटा जबकि सितंबर 2016 में इसमें 10.3 प्रतिशत की बढोतरी दर्ज की गई थी. इस वित्त वर्ष की पहली छमाही में इस खंड का उत्पादन 1.5 प्रतिशत घटा जबकि पिछले साल इसमें 6.9 प्रतिशत की वृद्धि हुई थी.

बिजली उत्पादन क्षेत्र की वृद्धि दर सितंबर में घटकर 3.4 प्रतिशत रही जो कि एक साल पहले 5.1 प्रतिशत थी. हालांकि खनन क्षेत्र ने आलोच्य महीने में 7.9 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की जबकि एक साल पहले इसमें 1.2 प्रतिशत की गिरावट थी.

आंकड़ों के अनुसार सितंबर महीने में प्राथमिक वस्तुओं की वृद्धि दर 6.6 प्रतिशत व पूंजीगत सामान की वृद्धि दर 7.4 प्रतिशत रही. वहीं गैर टिकाऊ उपभोक्ता सामान खंड की वृद्धि दर इस दौरान 10 प्रतिशत रही.

Source:Agency