Breaking News

Today Click 234

Total Click 3446497

Date 11-12-17

रायपुर में बनेगा प्रदेश का पहला ऑटोमेटिक व्हीकल फिटनेस टेस्ट सेंटर

By Mantralayanews :30-11-2017 09:02


रायपुर। सड़क दुर्घटनाओं को कम करने और वाहनों के फिटनेस की जांच में गड़बड़ी को रोकने के लिए हाईटेक मशीनों से लैस प्रदेश का पहला ऑटोमेटिक फिटेनस टेस्ट सेंटर रायपुर में बनेगा। इस सेंटर के लिए केंद्रीय परिवहन मंत्रालय से राज्य सरकार को 14 करोड़ 40 लाख स्र्पए मिल चुके हैं।

केंद्र सरकार से अधिकृत एजेंसी रायपुर के सेंटर का संचालन करेगी। इसके अलावा राज्य परिवहन विभाग ने दुर्ग और बिलासपुर में भी ऑटोमेटिक व्हीकल फिटनेस सेंटर बनाने की तैयारी शुरू कर दी है। इन दोनों शहरों में सेंटर बनाने के लिए खाका तैयार किया जा रहा है।

वर्तमान में ऑटोमेटिक व्हीकल फिटनेस सेंटर रोहतक और नासिक में है। अब रायपुर में क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय रावांभाठा के पीछे भी ऑटोमेटिक व्हीकल फिटनेस सेंटर बनेगा। केंद्र सरकार की एजेंसी आई कैट की मॉनीटरिंग में सेंटर का निर्माण होगा।

निर्माण का जिम्मा लोक निर्माण विभाग को दिया गया है। सेंटर बनने के बाद उसका तीन साल तक संचालन भी आई कैट एजेंसी ही करेगी। उसके बाद वह परिवहन विभाग को सेंटर हैण्डओवर कर देगी। दुर्ग और बिलासपुर में पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप (पीपीपी) मोड पर सेंटर बनेगा। जिस कंपनी को ठेका दिया जाएगा, वही अगले कुछ सालों तक सेंटर का संचालन करेगी, ताकि निर्माण लागत निकालने के साथ कमाई भी कर सके।

डिजिटल प्रक्रिया से होगी जांच

ऑटोमैटिक फिटनेस टेस्ट सेंटर में आने वाले वाहनों की जांच डिजिटल प्रक्रिया के तहत होगी। वाहनों के चेचिस नंबर को डिजिटल मशीन से जांचा जाएगा। इस कारण नंबर प्लेट बदलकर फिटनेस प्रमाणपत्र हासिल करने की गड़बड़ी पर रोक लगेगी। केवल फिट वाहन ही सड़क पर चल पाएंगे। अनफिट वाहन बाहर हो जाएंगे।

फिटनेस शुल्क में इजाफा होने की संभावना

रायपुर का सेंटर सरकारी एजेंसी चलाएगी, इसलिए यहां फिटनेस का शुल्क जो वर्तमान है, वही रहेगी। पीपीपी मोड पर दुर्ग और बिलासपुर में बनने वाले सेंटर्स के लिए आरएफपी (रिक्वेस्ट फॉर प्रपोजल) तैयार हो रहा है। इसमें यह विचार किया जा रहा है कि शुल्क का कितना हिस्सा ठेका एजेंसी और कितना परिवहन विभाग के खाते में जाएगा। तब तक नए मोटर व्हीकल एक्ट के तहत फिटनेस शुल्क में वृद्धि की जा सकती है।

सरकारी अमले के हाथ से निकल जाएगी जांच

परिवहन मंत्री राजेश मूणत नईदुनिया के कार्यक्रम 'हैलो नईदुनिया" में आए थे, तब उन्होंने फिटनेस जांच में शिकायतों को दूर करने के लिए निजी कंपनियों या एजेंसियों को ठेका देने की बात कही थी। इसके बाद ही परिवहन विभाग फिटनेस जांच को निजी हाथों में सौंपने की तैयारी में जुट गया। कुछ बड़ी ऑटोमोबाइल कंपनियों से परिवहन अकिारियों की चर्चा हुई है।

इनका कहना है

रायपुर में ऑटोमेटिक व्हीकल फिटनेस जांच सेंटर का काम जल्द शुरू हो जाएगा। केंद्र सरकार से अधिकृत एजेंसी इसकी मॉनीटरिंग और संचालन करेगी। दुर्ग और बिलासपुर में भी पीपीपी मोड पर ऑटोमेटिक व्हीकल फिटनेस सेंटर प्रस्तावित हैं। इनके लिए नियम-शर्त और अनुबंध का खाका तैयार किया जा रहा है। 

-श्वेता सिन्हा उपायुक्त, परिवहन
 

Source:Agency