Breaking News

Today Click 17

Total Click 3446280

Date 11-12-17

बेटियों को आगे बढ़ाने के लिए उनकी माताओं का सम्मान

By Mantralayanews :03-12-2017 09:00


रायपुर। खेल, शिक्षा, राजनीति, व्यवसाय और उच्च प्रशासनिक पदों पर बेटियां अपना परचम फहरा रही हैं। वे कामयाबी का आसमान छूने लगी हैं। शायद ही कोई ऐसा क्षेत्र बचा हो, जहां बेटियों ने अपनी प्रतिभा न दिखाई हो। इसके बावजूद अभी भी कुछ परिवारों में बेटियों के जन्म लेने पर उदासी छा जाती है।

बेटी पैदा होने पर हर घर में खुशियां छाएं, इसके लिए माहेश्वरी समाज ने अनोखी पहल शुरू की है। समाज ने तय किया है कि जिन घरों में दो बेटियां हैं उनकी 'मां' को समारोह में सम्मानित किया जाएगा। साथ ही बेटियों के जन्म को प्रोत्साहन देने के लिए शीघ्र ही फिक्स्ड डिपाजिट योजना शुरू की जाएगी। बेटी के पैदा होते ही समाज अपने फंड से बेटियों के नाम एक निश्चित राशि जमा करवाएगी। बेटी की जब शादी हो अथवा उच्च शिक्षा हासिल करनी हो तो वह राशि काम आएगी।

छत्तीसगढ़ प्रादेशिक माहेश्वरी सभा के संगठन मंत्री राजकुमार राठी बताते हैं कि प्रदेश अध्यक्ष विठ्ठल भूतड़ा व अन्य पदाधिकारियों ने फैसला किया है कि प्रदेशभर में समाज के जिन घरों में दो से अधिक बेटियां हैं उनकी 'मां' को सम्मानित किया जाए।

इसके लिए प्रदेशभर में दौरा करके स्थानीय संगठनों को जागरुक किया जा रहा है। यह भी निर्णय लिया गया है कि बेटियां उच्च शिक्षा हासिल करके आईएएस, आईपीएस जैसे पदों पर आसीन हो सके इसके लिए इच्छुक युवतियों की पढ़ाई का खर्चा समाज उठाएगा। समाज में अलग से एक फंड तैयार किया जा रहा है जो युवतियों को आगे बढ़ाने पर ही खर्च किया जाएगा।

माहेश्वरी समाज ने अब तक रायपुर, दुर्ग, राजनांदगांव, कुरुद, धमतरी, कांकेर, जगदलपुर, बिलासपुर, भाटापारा, कोरबा, महासमुंद जैसे शहरों का दौरा करके क्षेत्रीय संगठनों से सलाह-मशविरा करके इस योजना को मूर्तरूप दे दिया है।

छत्तीसगढ़ प्रादेशिक माहेश्वरी सभा के प्रदेश अध्यक्ष विठ्ठल भूतड़ा, मध्यांचल के सभापति मोहन राठी, बृजकिशोर सुरजन, आशा डोडिया, नारायण राठी, राजेश मंत्री, विजय दम्मानी, अशोक राठी, नरेंद्र लोहिया, गोविंद इनानी, सुशील लाहोटी, राधेश्याम राठी, रामकिशोर केला, सुरेश मुंदडा, गणेश भट्टड़, डॉ.रवि राठी, रामरतन मुंदडा, डॉ.सतीश राठी, मनोज राठी, जिलाध्यक्ष रमेश भट्टड़, प्रकाश लड्ढा, राजकुमार गांधी, शरद राठी, जगदीश राठी, नंदकिशोर राठी आदि मिलकर जनजागरुकता फैला रहे हैं।

शहर-दर-शहर जाकर स्थानीय संगठन के साथ बैठक करके बेटियों के जन्म और उच्च शिक्षा दिलाने की रूपरेखा बनाई जा रही है। शीघ्र ही यह तय किया जाएगा कि कितनी राशि जन्म लेते ही फिक्स डिपॉजिट की जाए और उसका सदुपयोग किस तरह से हो।
 

Source:Agency