Breaking News

Today Click 93

Total Click 3446356

Date 11-12-17

बारिश ही नहीं छत्तीसगढ़ में अब ठंड भी खंड-खंड

By Mantralayanews :03-12-2017 09:02


रायपुर । मौसम कोई भी हो, छत्तीसगढ़ के साथ दगा कर रहा है। न यहां जमकर बारिश हो रही, न कड़ाके की ठंड। हां, गर्मी हर साल बढ़ रही। सूखा भी। इस बार की बात करें तो दिसंबर शुरू है, लेकिन राज्य के कई हिस्सों से ठंड गायब है। मौसम विज्ञानी भी हैरान हैं।

तापमान में अचरज भरा अंतर

मानसून के दौरान राज्य में इस बार वर्षा भी खंड-खंड हुई। राज्य की 96 तहसीलें सूखाग्रस्त रहीं। ठंड भी खंड-खंड में पड़ रही है। ताजा आंकड़े गवाह हैं कि रायपुर का न्यूनतम तापमान 15 डिग्री सेल्सियस है, जबकि दुर्ग में 10, वहीं उसके पड़ोस में स्थित राजनांदगांव में रात का पारा 14 डिग्री तक चढ़ा हुआ है। पेंड्रारोड और अंबिकापुर का न्यूनतम तापमान 10 और 9 डिग्री और जगदलपुर में 11 डिग्री सेल्सियस तक गिर गया है। राज्य के उत्तर और दक्षिण के ज्यादातर हिस्सों समेत बाकी राज्य में कहीं- कहीं कड़ाके की ठंड पड़ रही है और कुछ अब भी गर्म हैं।

रायपुर शहर और आउटर के तापमान में भी अंतर

शहर के भीतरी और बाहरी हिस्से के तापमान में भी अंतर है। रायपुर और इसके आउटर के न्यूनतम तापमान में करीब दो डिग्री सेल्सियस का अंतर है। राजधानी रायपुर का न्यूनतम तापमान करीब 15 डिग्री है, जबकि आउटर में स्थित माना में 13 डिग्री सेल्सियस।

दिन के तापमान में भी अंतर

पूरे राज्य में दिन में कहीं भी ठंड नहीं पड़ रही है। ज्यादातर हिस्सों का अधिकतम तापमान 29 डिग्री सेल्सयस के करीब है। शनिवार को दुर्ग सर्वाधिक गर्म रहा। वहां का अधिकतम तापमान 30 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। रायपुर में 28, राजनांदगांव में 30 डिग्री सेल्सियस रहा। केवल एक अंबिकापुर का अधिकतम तापमान 23 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

इस वजह से नहीं पड़ रही ठंड

दो चक्रवातों के असर के कारण इस बार अब तक अच्छी ठंड नहीं पड़ पाई है। मौसम विशेषज्ञों के अनुसार एक चक्रवात बंगाल की खाड़ी में सक्रिय हुआ था, अब भी वह पूरी तरह खत्म नहीं हुआ कि अरब सागर में चक्रवात सक्रिय हो गया। इससे हवा में नमी बढ़ गई और ठंड नहीं पड़ पाई।

दो दिन बाद फिर चढ़ेगा पारा

अभी दो दिन यानी रविवार और सोमवार को प्रदेश के तापमान में कमी आएगी। रायपुर मौसम केंद्र के अनुसार इसके बाद तीसरे दिन से फिर पारा चढ़ जाएगा। ऐसा अरब सागर में बने चक्रवात से आ रही नम हवा के कारण होगा।

बाहरी सिस्टम पर निभर्र प्रदेश का मौसम

छत्तीसगढ़ के मौसम का पूरा सिस्टम दूसरे हिस्सों पर निभर्र है। यहां के मौसम पर सबसे ज्यादा असर बंगाल की खाड़ी और अरब सागर का पड़ता है। राज्य में ठंड पूरी तरह उत्तरी हवा पर निर्भर है, तो गर्मी पश्चिम से आने वाली हवा पर। वहीं, बारिश का मिजाज दक्षिणी हवा पर निर्भर है।

ऐसा नहीं है कि राज्य में ठंड नहीं पड़ रही है, उत्तर और दक्षिण में न्यूनतम तापमान में कमी आई है। पेंड्रा और अंबिकापुर में तो तापमान 10 डिग्री सेल्सियस तक गिर गया है।

- प्रकाश खरे, मौसम केंद्र निदेशक रायपुर

राज्य में ठंड उत्तरी हवा से आती है, इस बार खाड़ी में उठे चक्रवात के कारण पूर्व से हवा आ रही है। इसी वजह से जहां घनी आबादी है, वहां तापमान अधिक है। हवा की दिशा बदलते ही राज्य के मौसम के मिजाज में भी बदलाव आएगा।

डॉ. एएसआरएएस शास्त्री, कृषि मौसम वैज्ञानिक
 

Source:Agency