Breaking News

Today Click 140

Total Click 3651613

Date 21-05-18

एनएसई को दोबारा दाखिल करने पड़ सकते हैं दस्तावेज

By Mantralayanews :05-12-2017 06:52


नई दिल्ली । नियामक सेबी की ओर से को-लोकेशन मामले में स्थिति स्पष्ट होने के बाद नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) को आइपीओ के लिए नए दस्तावेज दाखिल करने पड़ सकते हैं। एनएसई ने मौजूदा आइपीओ दस्तावेज भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) के पास पिछले साल दिसंबर में दाखिल किए थे।

मर्चेंट बैंकिंग सूत्रों ने बताया कि एनएसई का यह पब्लिक इश्यू हाल का सबसे बड़ा आइपीओ हो सकता है। इसका आकार 10,000 करोड़ रुपये तक हो सकता है। प्रतिस्पर्धी बंबई स्टॉक एक्सचेंज यानी बीएसई का आइपीओ इस साल फरवरी में सूचीबद्ध (लिस्टेड) हुआ था।

सेबी से जुड़े सूत्रों ने कहा कि एनएसई को नए दस्तावेज फिर से दाखिल करने होंगे। इसकी वजह यह है कि बाजार नियामक ने आइपीओ के प्रस्ताव को पहले के दस्तावेजों के आधार पर रोक रखा है। एनएसई के प्रवक्ता ने बताया, ‘हमने शेयरधारकों को सूचित किया है कि मौजूदा मसौदा दस्तावेज (डीआरएचपी) खुले रहेंगे। जब को-लोकेशन में कुछ ब्रोकरों को तरजीह दिए जाने के मामले में स्थिति स्पष्ट होने पर हम इसे फिर से दाखिल कर देंगे। वर्ष 2011-14 के बीच एनएसई के सर्वर पर बड़े सौदों में मुंबई से इतर एक्सचेंज की को-लोकेशन फैसिलिटी में कुछ ब्रोकरों को कथित तौर पर तरजीह दी गई थी। बाजार नियामक, स्टॉक एक्सचेंजों समेत कई एजेंसियां इस मामले की जांच कर रही हैं।
 

Source:Agency