Breaking News

Today Click 1752

Total Click 3530862

Date 20-01-18

फेसबुक,टि्वटर व व्‍हाट्सएप के जरिए उच्च शिक्षा होगी आसान

By Mantralayanews :03-01-2018 07:32


बिलासपुर। गुरु घासीदास केंद्रीय विश्वविद्यालय प्रशासन ने डिजीटल क्रांति की दिशा में एक और कदम बढ़ाया है। फेसबुक, टि्वटर और व्‍हाट्सएप के जरिए उच्च शिक्षा को आसान बनाने कवायद चल रही है। इंटरनेट व सोशल मीडिया की मदद से स्टूडेंट घर बैठे ऑनलाइन शिक्षा ग्रहण करेंगे। केंद्र सरकार को भेजे जाने वाले पांच,सात और पंद्रहवर्षीय कार्ययोजना में 90 फीसदी काम पूरा हो चुका है।

केंद्रीय विश्वविद्यालय के अधिकारियों ने दावा किया है कि वर्ष 2018 में गुरु घासीदास विवि भारत के नक्शे में अलग पहचान स्थापित करेगा। केंद्रीय मानव संसाधन एवं विकास मंत्रालय (एमएचआरडी) को भेजे जाने वाले 17 बिन्दुओं पर प्रस्ताव लगभग तैयार कर लिया गया है। हाल ही में नोडल अधिकारी भी नियुक्त किए गए हैं। जिसमें सबसे प्रमुख मैसिव ऑनलाइन ओपन कोर्स (मूक) सबसे प्रमुख है।

ऑनलाइन कोर्स को लेकर प्रस्तावित पाठ्यक्रमों के अनुमोदन, पाठ्यक्रमों के प्रकाशन,नए पाठयक्रमों की संरचना, शिक्षकों के प्रशिक्षण, अनवीक्षण प्रकोष्ठ, स्वयं प्रभा डीटीएच चैनल खरीदने,शिक्षकों के अभिमुखीकरण आदि बिंदुओं पर कार्य योजना डॉ.एमसी राव के नेतृत्व में तैयार की जा रही है।

खासबात यह कि वेबसाइट पर उपलब्ध पाठ्यक्रमों का पोस्टर मुद्रित कर एवं वाट्सएप मैसेज, फेसबुक,टि्वटर आदि सोशल मीडिया पर प्रचार,डिजीटल संसानों के वर्तमान उपयोग की समीक्षा के लिए निरीक्षण एवं पर्यवेक्षण प्रकोष्ठ के लिए भी सेल बनाया गया है। विश्वविद्यालय प्रशासन का दावा है कि इससे उच्च शिक्षा ग्रहण करना बहुत आसान होगा। वर्तमान में लगभग 10 हजार विद्यार्थी अध्ययनरत हैं।

दिल्ली जाएंगी कुलपति

ऑनलाइन कोर्स व डिजीटल सिस्टम को लेकर कुलपति प्रो.अंजिला गुप्ता 6 जनवरी को एमएचआरडी में रिपोर्ट प्रस्तुत करने दिल्ली जाएंगी। इस दौरान केंद्रीय विश्वविद्यालय के अन्य विभागों व कामकाज को लेकर भी ब्यौरा देंगी। एमएचआरडी में आयोजित बैठक देशभर में देशभर के केंद्रीय विश्वविद्यालय के कुलपति शामिल होंगे। इस बैठक में गुणवत्ता स्थापित करने बल दिया जाएगा।

समीक्षा बैठक होगी

कुलपति 18 एवं 19 जनवरी को विश्वविद्यालय में समीक्षा बैठक लेंगी। इसमें सभी नोडल अधिकारी अनिवार्य रूप से उपस्थित होंगे। कार्ययोजना को लेकर शोध, गुणवत्ता, विस्तार तथा नए पाठ्यक्रम तैयार करने अध्ययनशालाओं की कार्ययोजना को लेकर मंथन होगा। यह पहला मौका है जब ऑनलाइन व डिजटलाइनेश को लेकर वृहद स्तर पर तैयारी चल रही है।

इनका कहना है

ऑनलाइन मूक कोर्स को लेकर तैयारी है। पांच, सात व पंद्रह वर्षीय योजना में इसे शामिल किया गया है। 6 को कुलपति 

Source:Agency