Breaking News

Today Click 1760

Total Click 3530870

Date 20-01-18

अगस्ता वेस्टलैंड:इटली के वकील मनी ट्रेल साबित करनेमे नाकाम,CBI को झटका

By Mantralayanews :10-01-2018 06:55


अगस्ता वेस्टलैंड और फिनमेकानिका के मामले में दो पूर्व वरिष्ठ अधिकारियों को बरी कर दिया गया है। इटली के एक कोर्ट में सबूतों के अभाव के कारण ऐसा हुआ है। कहा जा रहा है कि भारतीय जांच एजेंसियों के लिए ये बड़ा झटका है। 

मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक इटली कोर्ट की ओर से इन लोगों को बरी किए जाना इटली के अभियोजन पक्ष की नाकामी को दर्शाता है। वो इस बात को साबित करने में नाकाम रहे कि वीवीआईपी हेलीकॉप्टर की डील में संदिग्ध घूस का पैसा किन किन के पास गया। बता दें कि वीवीआईपी हेलीकॉप्टर अगस्ता वेस्टलैंड की ये डील 3600 करोड़ रुपए की थी। 

कई मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक सीबीआई की चार्डशीट डोजियर में इस बात पर   ज्यादा ध्यान कि पैसे भेजने में कथित तौर पर ट्यूनीशिया और मॉरीशस की शैल कंपनियों का इस्तेमाल किया गया। दिल्ली कोर्ट में सीबीआई ने जो चार्जशीट दाखिल की गई है कि उसमें कहा गया है कि जब वीवीआईपी हेलीकॉप्टर्स की आपूर्ति की प्रक्रिया को अंतिम रूप दिया जा रहा था तब त्यागी भाइयों- संजीव त्यागी उर्फ़ जूली त्यागी, संदीप त्यागी और राजीव त्यागी ने ट्यूनिशिया की मैसर्ज गोर्डियन सर्विसेज और मैसर्ज सोसायटी टेक वेंचर्स कॉर्प से 4.05 लाख यूरो (2.28 करोड़ रुपए) कथित तौर पर हासिल किए थे। विदेश में आए ये पैसे 27 जुलाई 2004 से 24 अप्रैल 2006 के बीच त्यागी भाइयों के खुद के लिए और एयर चीफ मार्शल (रिटायर्ड) एसपी त्यागी के लिए आई। इसे उनके खाते में जमा कराया गया जो पंजाब नेशनल बैंक की जनपथ स्थित ब्रांच में खुले थे। 

तब जांच एजेंसी ने दावा किया था कि आरोपों को साबित करने के लिए उनके पास दस्तावेजी सबूत मौजूद हैं। मिलना कोर्ट के आदेश की पूरा टेक्स्ट आना बाकी है लेकिन सोमवार को इसका जो ऑपरेटिव हिस्सा आया है उसके मुताबिक इटली का अभियोजन ये साबित ही नहीं कर पाया भारत के पूरव वायुसेना प्रमुख समेत संदिग्धों ने असल में रकम हासिल की थी या एंग्लो इटालियन कंपनी अगस्ता वेस्टलैंड के पक्ष में हेरफेर से कॉन्ट्रेक्ट देने के लिए टेंडर में दखल दिया था।  

Source:Agency