Breaking News

Today Click 2563

Total Click 3617520

Date 22-04-18

IPL बोली से पहले युवी-गंभीर की 'उबाऊ' फिफ्टी, रैना का बल्ला भी 'खामोश'

By Mantralayanews :10-01-2018 07:01


इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल)-2018 के लिए खिलाड़ियों की नीलामी से पहले घरेलू टी-20 टूर्नामेंट सैयद मुश्ताक अली टूर्नामेंट पर फ्रेंचाइजी की नजरें हैं. आईपीएल के 11वें सीजन के लिए 27-28 जनवरी को आठ फ्रेंचाइजी बोल लगाएंगी. इस बीच जोनल टी-20 टूर्नामेंट खेला जा रहा है, जो 16 जनवरी तक जारी रहेगा. इसके बाद 21 जनवरी से सैयद मुश्ताक अली टूर्नामेंट की सुपरलीग खेली जाएगी, जिसका फाइनल 27 जनवरी को होगा. इसी दिन आईपीएल की बोली शुरू हो जाएगी.

युवराज 40 गेंदों में अर्धशतक

36 साल के युवराज सिंह के अलावा गौतम गंभीर के प्रदर्शन पर गौर किया जाए, तो दोनों ने अपने पहले मैच में जरूर अर्धशतक जमाए, जो काफी धीमे रहे. नॉर्थ जोन के दिल्ली-पंजाब मैच में युवराज सिंह ने 50 और गौतम गंभीर ने 66 रन बनाए. यह मैच पंजाब ने 2 रन से जरूर जीता, लेकिन युवराज ने अपने अर्धशतक के लिए 40 गेंदें खेलीं. युवराज सिंह के 26 टी-20 अर्धशतकों में यह संयुक्त रूप से दूसरी सबसे धीमी फिफ्टी रही.

गंभीर 45 गेंदों में अर्धशतक

उधर, 36 साल के ही गौतम गंभीर ने 45 गेंदों में अर्धशतक पूरा किया. यह पारी उनके 52 टी-20 अर्धशतकों में पांचवीं सबसे धीमी फिफ्टी रही. और पंजाब के खिलाफ 171 रनों के टारगेट का पीछा करते हुए 66 रनों की उनकी पारी दिल्ली को जीत नहीं दिला पाई. वह रन आउट हुए थे.

रैना दो मैचों में 13 और 1 रन

उधर, चेन्नई सुपर किंग्स में रिटेन हुए 31 साल के सुरेश रैना का बल्ला खामोश है. सेंट्रल जोन में उत्तर प्रदेश के अब तक दो मुकाबलों में उन्होंने 13 और 1 रन बनाए हैं. कप्तानी कर रहे रैना की टीम को 9 जनवरी को राजस्थान के खिलाफ अपना पहला मैच गंवाना पड़ा, जबकि मध्य प्रदेश के खिलाफ 10 जनवरी का मैच जारी है.

युवराज को सनराइजर्स ने रिटेन नहीं किया

टीम इंडिया से बाहर चल रहे युवराज सिंह इन दिनों फिटनेस के लिए जूझ रहे है. सनराइजर्स हैदराबाद ने भी उन्हें तरजीह नहीं दी. 2016 की चैंपियन हैदराबाद की टीम ने युवराज को 7 करोड़ रु. में खरीदा था. उस सीजन में युवराज ने 10 मैचों में 236 रन बनाए थे. जबकि 2017 में चौथे स्थान पर रहे हैदराबाद के लिए युवराज ने 12 मैचों में 252 रन बनाए.

गंभीर को केकेआर ने रिटेन नहीं किया

कोलकाता नाइट राइडर्स ने गौतम गंभीर को बाहर का रास्ता दिखाया. 2011 में केकेआर ने लोकल हीरो सौरव गांगुली की जगह गंभीर को कप्तान बनाया. तब उस केकेआर ने रिकॉर्ड11.04 करोड़ में उन्हें खरीदा था. उस साल केकेआर पहली बार आईपीएल में चौथे स्थान पर रही. अगले ही साल 2012 में गंभीर की कप्तानी में केकेआर की टीम पहली बार आईपीएल चैंपियन बनी. गंभीर को 2014 में रिटेन किया गया और केकेआर ने दूसरी बार खिताब पर कब्जा किया.
 

Source:Agency