Breaking News

Today Click 769

Total Click 4001553

Date 18-11-18

कागजों पर बंद हुआ काम, आ गया है ई-वे बिल

By Mantralayanews :03-04-2018 08:20


रायपुर। अप्रैल शुरू होते ही राज्य के बाहर ई-वे लागू हो गया है और अब कागजों पर कच्चा काम बंद हो रहा है। अभी तक की स्थिति में प्रदेश के बाहर माल भेजने वाले करीब नौ हजार से अधिक डीलरों तथा 270 ट्रांसपोटर्स का पंजीयन हो गया है। हालांकि अभी भी करीब 6000 डीलर ऐसे है, जिनका ई-वे बिल में पंजीयन नहीं हो पाया है।

व्यापारियों को हर हाल में ई-वे बिल देना ही होगा। विभागीय अधिकारियों का कहना है कि ई-वे बिल के लिए सॉफ्टवेयर पूरी तरह से अपडेट कर लिए गए हैं। इसके आने से अब कच्चे का काम पूरी तरह से बंद हो जाएगा, क्योंकि इसमें पेनाल्टी, कर की 100 फीसद रहेगी।

बताया जा रहा है कि ई-वे बिल पूरी तरह से डिजिटल डॉक्युमेंट है। इसकी वजह से ग्रामीण क्षेत्रों में जहां नेटवर्क की उपलब्धता नहीं रहती, वहां परेशानी भी आ रही है। ई-वे बिल 50 हजार से कम के माल पर आवश्यक नहीं है।

ऐसे समझें, क्या है ई-वे बिल

ई-वे बिल ऐसा डिजिटल डॉक्युमेंट है जो यूनिक नंबर है। यह कम्प्यूटर में ई-वे बिल पोर्टल के जरिए या मोबाइल एप में एसएमएस के जरिए गुड्स के मूवमेंट के लिए जारी करना होगा। छत्तीसगढ़ में अभी 31 मई तक ई-वे बिल में छूट है। यहां स्थानीय स्तर पर ई-वे बिल नहीं लगेगा, लेकिन राज्य से बाहर माल भेजने पर ई-वे बिल अनिवार्य होगा।

ई-वे बिल है बहुत आसान

- ई-वे बिल 50000 रुपये से कम के माल पर आवश्यक नहीं है।, लेकिन यह हैंडी क्राफ्ट गुड्स या जॉब वर्क के लिए माल दूसरे राज्य में भेजेंगे तो अनिवार्य है।

- ई-वे बिल जारी करते समय कुछ गलत जानकारी डाल दी गई तो इसे बदल नहीं सकते। लेकिन जारी करने के 24 घंटे पहले इसे केंसल जरूर कर सकते है।

- ई-वे बिल 100 किमी की दूरी तक 24 घंटे के लिए वैलिड है। अतिरिक्त 24 घंटे के लिए ई-वे बिल अलग रहेगा।

- ई-वे बिल 50 किमी के दायरे के लिए आवश्यक नहीं है, यह अफवाह है। एक स्थान से दूसरे स्थान अगर बाइक में बी माल भेजा जाता है, जिसकी कीमत 50 हजार से अधिक है तो उसमे ई-वे बिल लगेगा।

- अगर आपने बिना ई-वे बिल के माल भेजा और अधिकारी द्वारा गाड़ी पकड़ी जाती है तो अधिकारी आपकी गाड़ी को रोक सकता है। जिस पर टैक्स के अलावा पेनाल्टी भी लगेगा। पेनाल्टी कर की 100 प्रतिशत होगी।

- जब माल किसी भी कारण से बिक्री, खरीदी बिक्री वापसी, खरीदी वापसी, जॉब वर्क, लाइनसेल, एग्जीबिशन फेयर या अपने ही गोडाउन या डिपो में माल भेज रहे है तो ई-वे बिल जारी करना होगा।
 

Source:Agency