Breaking News

Today Click 904

Total Click 3655320

Date 24-05-18

रायपुर : राज्य के विकास में मरार समाज का सराहनीय योगदान- डॉ. रमन सिंह

By Mantralayanews :09-04-2018 07:51


मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह आज बिलासपुर जिले के ग्राम कोनचरा (विकासखण्ड-कोटा) में आयोजित शाकंभरी महोत्सव और मरार पटेल समाज के सामाजिक सम्मेलन में शामिल हुए। उन्होंने मुख्य अतिथि की आसंदी से लोगों को सम्बोधित करते हुए कहा- मरार समाज का छत्तीसगढ़ के विकास में सराहनीय योगदान है। यह समाज अपने कठोर अनुशासन के लिये जाना जाता है। इस समाज ने विभिन्न प्रकार की सामाजिक बुराईयों से दूरी बनाकर रखी है, जो बड़े ही हर्ष की बात है। महोत्सव और सम्मेलन का आयोजन भोयरा मरार पटेल कल्याण समिति द्वारा किया गया।
मुख्यमंत्री ने कहा- मरार समाज के लोग मां शाकंभरी के उपासक हैं, जिन्हंे प्रकृति और हरियाली की देवी माना जाता है। इस समाज के लोग नदी के कछार में सब्जी उत्पादन से जुड़ कर समाज की भलाई के साथ-साथ प्रदेश की तरक्की में अपना सराहनीय योगदान दे रहें हैं। डॉ. सिंह ने कहा कि सरकार ने शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र में बाजार (पसरा) शुल्क को समाप्त कर दिया है। शुल्क समाप्त होने से सब्जी व्यवसाय से जुड़े कृषकों की आय में वृद्धि हुई है और उनकी परेशानी खत्म हो गई है।
    डॉ. रमन सिंह ने समाज के प्रतिनिधियों के आग्रह पर ग्राम कोनचरा में सामाजिक समरसता भवन के लिये 15 लाख रूपये, सड़क कंक्रीटीकरण के लिये 10 लाख रूपये तथा तालाब सौंदर्यीकरण की मांग को स्वीकृति प्रदान की। डॉ सिंह ने कहा कि पंप कनेक्शनों की संख्या पहले 60 हजार थी जो बढ़कर अब 4 लाख 60 हजार तक हो गई है। सौर सुजला योजना के माध्यम से 3 लाख रूपये का पंप किसानों को मात्र 10-15 हजार की कीमत में देते हैं। अभी सरकार 50 हजार पंप का वितरण कर रही है। उन्होंने कहा कि सौभाग्य योजना के अंतर्गत हर गांव,मजरा, टोला में विद्युत कनेक्शन दिये जा रहे हैं। अगले 4 माह में 6 लाख 40 हजार लोगों के घर बिजली पहुंचा दी जाएगी। उन्होंने कहा कि सरकार ने प्रदेशभर में सड़कों का ऐसा जाल बिछा दिया कि है कि कृषक कम समय में ही अपनी सब्जी बाजार तक पुहंचा कर अच्छी कीमत ले पा रहे हैं। सड़कों के बन जाने से सिर्फ परिवहन ही आसान नहीं हुआ है बल्कि किसानों को भी इसका लाभ मिल रहा है। 
उन्हांेन कहा- मरार (पटेल) समाज ने शाकाहार को प्राथमिकता दी है, जिससे अहिंसा को बढ़ावा मिलता है। उन्होंने कहा कि जहां-जहां हरियाली आती है वहां मां शाकंभरी की कृपा होती है। सरकार ने छत्तीसगढ़ में धान के अलावा सब्जी उत्पादन को भी बढ़ावा दिया है। मरार समाज सब्जी उत्पादन से जुड़ा हुआ है। उन्होंने समाज के युवाओं को कृषि महाविद्यालयों में कौशल उन्नयन के अंतर्गत कृषि के क्षेत्र में तीन माह का निशुल्क प्रशिक्षण लेने का आह्वान किया। साथ ही कहा कि टिशु कल्चर को अपनाकर सब्जी एवं फल उत्पादन को बढ़ाकर आमदनी में वृद्धि की जा सकती है। उन्होंने बेटियों की शिक्षा पर भी जोर दिया। उन्होंने कहा कि आजकल बेटियां हर क्षेत्र में आगे हैं और फायटर प्लेन तक उड़ा रही हैं।
    लोकसभा सांसद श्री लखनलाल साहू ने कहा कि सरकार ने शाकंभरी योजना के माध्यम से किसानों को लाभ पहुंचाया है। मरार(पटेल) समाज ने शाकंभरी योजना का लाभ बखूबी लिया है और अपनी आर्थिक तरक्की की है। उन्होंने समाज से आह्वान किया कि वे प्रधानमंत्री उज्जवला योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना, शौचालय निर्माण सहित अन्य शासकीय योजनाओं का लाभ उठाएं। सम्मेलन में संसदीय सचिव श्री तोखन साहू, मरार समाज के प्रदेश अध्यक्ष श्री विजय पाटिल, जिला पंचायत उपाध्यक्ष सुश्री समीरा पैकरा और कवर्धा के जिला पंचायत सदस्य श्री संतोष पटेल सहित अनेक जनप्रतिनिधि और समाज के प्रतिनिधि उपस्थित थे। बिलासपुर संभाग के कमिश्नर श्री टी.सी. महावर, और जिला कलेक्टर श्री पी दयानंद सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी कार्यक्रम में मौजूद थे।
 

Source:Agency