Breaking News

Today Click 2133

Total Click 3591967

Date 22-02-18

महासमुंद में मृत बेटी जिंदा निकली,  मृत बेटी को जिंदा समझते रहे

By Mantralayanews :13-02-2018 09:19


रायपुर। धमतरी में 11 महीने पहले मिली एक किशोरी की लाश को अपनी बेटी समझकर महासमुंद का एक परिवार ले गया। मातम भरे माहौल में शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया। दस दिन बाद उनकी बेटी सकुशल लौट आई। परिवार का हर सदस्य कोई हक्का-बक्का रह गया। फिर पुलिस 11 माह तक चक्कर में पड़ी रही। आखिर वह लाश किसकी थी? जांच पूरी हुई तो मृत लड़की रायपुर की निकल गई, जिसकी हत्या की गई थी। पुलिस ने महिला समेत चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

कोतवाली थाना की किशोरी की हत्या के आरोप में चंगोराभाठा के साहिल विश्वकर्मा (22), भाई दिनेश विश्वकर्मा (33), कुसुम विश्वकर्मा के साथ नानू बेहरा (21) को गिरफ्तार किया है। इन्होंने ही नाबालिग को सेजबहार में मारकर उसकी लाश धमतरी में फेंक दी थी।

एएसपी सिटी विजय अग्रवाल के मुताबिक मृत किशोरी का मोबाइल चालू रहा और इसी की जांच से खुलासा हो सका। साहिल घटना के दिन किशोरी को अपने साथ सेजबहार ले गया था। दोस्त नानू को भी बुला लिया। वहां मामूली बात पर विवाद हुआ और गला दबाकर किशोरी को मार डाला।

फिर भाई और भाभी की मदद लेकर उनके ऑटो से धमतरी जाकर लाश को नहर में फेंक दिया। तभी शिनाख्ती की कोशिश में मामला महासमुंद पहुंच गया। वहां से एक नाबालिग गायब थी। इस परिवार ने हुलिया देख लाश को अपनी बेटी मान लिया। अंतिम संस्कार के करीब दस दिन बाद उनकी बेटी घर लौट आई।

परिवार का हर कोई हक्का-बक्का रह गया। महासमुंद पुलिस को पता चला, अफसर भी सन्न रह गए। इस पर धमतरी पुलिस ने फिर छानबीन शुरू की और रायपुर तक पहुंची, तब पूरे मामले का खुलासा हो सका।

जिंदा बेटी के बड़े सबूत ने खोला मौत का राज 

सीएसपी सुखनंदन राठौर ने बताया कि धमतरी में शव मिला था तब शिनाख्ती के लिए फोटो व दूसरे सामान सुरक्षित रखे गए थे। इसकी तस्दीक करने पर मृतका के रायपुर के होने का पता चला।

मृत किशोरी को मोबाइल फोन पर रखा जिंदा 

कोतवाली थाना क्षेत्र से गायब किशोरी के परिजन समझते रहे कि बेटी अब तक जिंदा है। आरोपी साहिल उन्हें गुमराह करता रहा। हत्या के बाद किशोरी का मोबाइल अपने पास रखा था। इसी नंबर से धमतरी जाकर अपने घर फोन करता था। फिर रायपुर आकर किशोरी के घरवालों जानकारी देता कि उनकी बेटी ने संपर्क किया है। परिजन नंबर देखकर यकीन कर लेते थे कि बेटी जिंदा है।
 

Source:Agency