Breaking News

Today Click 143

Total Click 3797428

Date 22-08-18

एशियाई सॉफ्टबॉल चैंपियनशिप में अरुणा व सुनीता करेंगी देश का प्रतिनिधित

By Mantralayanews :11-04-2018 08:45


बीजापुर । वनोपज के साथ ही थोड़ी सी खेती के भरोसे अरुणा का छह सदस्यीय परिवार गुजर-बसर करता है। अरुणा बचपन से ही पढ़ने और खेलकूद में रुचि लेती थी। साल भर पहले उसने बीजापुर में स्पोर्ट्स अकादमी में दाखिला लिया और सॉफ्टबॉल को चुना।

साल भर में ही राष्ट्रीय स्तर की दो और राज्य स्तरीय पांच प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेकर शानदार खेल दिखाया। राज्य स्तर पर कांस्य पदक हासिल किया और फिर राष्ट्रीय टीम में भी जगह बना ली।

सुनीता हेमला भी संघर्षों से भरे रास्ते से आगे बढ़ीं। उनका परिवार भी महुआ और तेंदूपत्ता जैसे वनोपज संग्रह के सहारे गुजर करता है। सुनीता ने संघर्ष को चुनौती के रूप में लिया। बीजापुर खेल अकादमी वरदान के रूप में सामने आई। खेल में अपना भविष्य देख रही सुनीता ने सॉफ्टबॉल को मुख्य खेल चुना। प्रतिभा के बूते राज्य स्तर पर दो पदक जीतकर राष्ट्रीय स्तर पर पहचान बनाई और राष्ट्रीय टीम में पहुंचीं।

पीएम उपलब्धियों पर बनी फिल्म का करेंगे अवलोकन

बीजापुर खेल अकादमी को अस्तित्व में आए साल भार भी नहीं हुआ है, लेकिन देश में इस अकादमी का डंका बज रहा है। तीरंदाजी, जूडो, कराटे, तैराकी, सॉफ्टबॉल, वालीबॉल, बास्केटबॉल, एथलेटिक्स, फुटबॉल और बैडमिंटन समेत दस खेलों में फिलहाल 270 बच्चे प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे हैं।

46 खिलाड़ियों ने राज्य स्तर पर और 24 ने राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में 48 पदक बटोरे हैं, जिनमें 10 गोल्ड मैडल हैं। अपने बीजापुर दौरे के दौरान प्रधानमंत्री इस अकादमी की शानदार उपलब्धियों पर बनी प्रोमो फिल्म का भी अवलोकन करेंगे।

पीएम से चर्चा का इंतजार

- हम दोनों को प्रधानमंत्री जी से मुलाकात का बेसब्री से इंतजार है। संभवत: यह पहला अवसर है जब बीजापुर की चर्चा नक्सल हिंसा के लिए नहीं बल्कि बीजापुर की बेटियों की उपलब्धि के लिए, खेलों के लिए हो रही है। इसका श्रेय बीजापुर खेल अकादमी और कोच सोपान करणोवार को जाता है। अगर इनका साथ न मिलता तो हमें शायद ही यह उपलब्धि हासिल होती। - अरुणा पूनेम और सुनीता हेमला, इंडियन सॉफ्टबॉल टीम की सदस्य
 

Source:Agency