Breaking News

Today Click 2457

Total Click 3736220

Date 21-07-18

नोटबंदी जैसे हालातः देश में कैश की भारी कमी, ATM में नहीं हैं पैसे

By Mantralayanews :17-04-2018 06:23


8 नवंबर 2016 को हुए नोटबंदी के बाद देश भर के लोगों को कैश के लिए बैंकों और एटीएम की लाइन में लगकर परेशानी का सामना करना पड़ा था. अभी उस नोटबंदी के ज्यादा दिन नहीं हुए हैं और न ही नोटबंदी की घोषणा हुई है लेकिन देश में अघोषित नोटबंदी जैसे हालात हो गए हैं. देश के अलग-अलग हिस्सों से खबरें आ रही हैं कि एटीएम और बैंक में पर्याप्त कैश नहीं होने के कारण परेशानियों से दो-चार होना पड़ रहा है.

बिहार, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में बीते कई दिनों से लोगों को कैश नहीं मिल पा रहा है. देश के अलग-अलग हिस्सों से खबर आ रही है कि अपने ही पैसे को निकालने के लिए लोगों को एटीएम के चक्कर काटने पड़ रहे हैं.

यह हालात केवल राज्यों में ही नहीं है बल्कि राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली और एनसीआर के इलाकों में भी लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. मिली जानकारी के मुताबिक, गुड़गांव के 80 प्रतिशत एटीएम कैशलेस हो गए हैं. मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को कहा था कि एटीएम में पैसों की कमी के पीछे कोई साजिश है. उन्होंने कहा कि 16.5 लाख करोड़ नोट छापे गए हैं और मार्केट में पहुंच चुके हैं. लेकिन 2000 के नोट कहां जा रहे हैं? कौन लोग नकदी संकट जैसा माहौल बनाने की कोशिश कर रहे हैं? समस्या उत्पन्न करने की साजिश चल रही है और राज्य सरकार इसके बारे में सख्त कदम उठाएगी, हम केंद्र सरकार के संपर्क में भी हैं.

नोटबंदी के बाद सुधर गए थे हालात

नोटबंदी के बाद बाजार में कैश की आई कमी के बाद आरबीआई ने हालात को सुधारने के लिए लगभग 5 लाख करोड़ रुपए के 2000 के नोट जारी किए थे और ये नोट प्रचलन में थे. इनके आने से कैश की कमी की स्थिति सुधर गई थी.

देश में उत्पन्न हुए इस हालात पर लोगों को भी कुछ समझ नहीं आ रहा है. एक तरफ शादियों का मौसम चल रहा है तो दूसरी तरफ किसान मुश्किल में हैं क्योंकि यह फसल कटाई का समय है. ऐसे में उन्हें कैश की किल्लत से भारी कठीनाइयों का सामना करना पड़ रहा है. तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद में भी हालात ठीक नहीं हैं. लोगों का कहना है कि हम पैसे नहीं निकाल पा रहे हैं. कई एटीएम खाली पड़े हुए हैं. पूरे शहर में ऐसे ही हालात हैं.
 

Source:Agency