Breaking News

Today Click 494

Total Click 3896087

Date 21-09-18

FIFA World Cup: उरूग्वे को होगा फ्रांसीसी तिकड़ी से खतरा

By Mantralayanews :06-07-2018 07:17


निज्नी नोवगोरोदः फीफा विश्वकप में अपने प्रदर्शन से चौंकाने वाली फ्रांस आज फ्रायरब्रांड एंटोनी ग्रिजमैन, ओलिवर गिराउड और काइल एमबापे की तिकड़ी की बदौलत उरूग्वे को क्वार्टरफाइनल मुकाबले में बाहर करने का प्रयास करेगी। दक्षिण अमेरिकी टीम उरूग्वे ने अंतिम-16 मैच में क्रिस्टियानो रोनाल्डो की पुर्तगाल को 2-1 से पराजित कर क्वार्टरफाइनल में प्रवेश किया है। इस मैच में उरूग्वे के खिलाफ हुआ एक गोल रूस में चल रहे विश्वकप में उसके खिलाफ हुआ एकमात्र गोल ही है। 

यह उपलब्धि मौजूदा टूर्नामेंट में केवल ब्राजील ने अब तक हासिल की है जिसके खिलाफ भी अब तक विपक्षी टीमें चार मैचों में केवल एक गोल ही कर सकी हैं। हालांकि फ्रांसीसी टीम ने भी अपने प्रदर्शन से बहुत चौंकाया है जिसने स्टार फारवर्ड लियोनल मैसी की अर्जेंटीना के खिलाफ अंतिम-16 मैच में चार गोल किए और अब वह निज्नी नोवागोरोद स्टेडियम में भी अपनी आक्रामक तिकड़ी ग्रिजमैन, गिराउड और एमबापे की मदद से उरूग्वे के खिलाफ भी इसी प्रदर्शन को दोहराने की उम्मीद कर रही है। 

19 साल के एमबापे ने अर्जेंटीना के खिलाफ मैच में दो गोल किये थे और वह ब्राजील के पेले के बाद पहले सबसे युवा फुटबाॅलर बन गए हैं जिन्होंने विश्वकप में यह उपलब्धि अपने नाम की है। पेले ने वर्ष 1958 विश्वकप फाइनल में यह कामयाबी हासिल की थी। एमबापे ने मैच में बहुत तेजी दिखाते हुए फ्रांस को जिस तरह पेनल्टी दिलाई थी उसने सबसे अधिक सुर्खियां बटोरी थीं।  

फ्रांस के मिडफील्डर फ्लोरियन थाउविन ने हंसते हुए कहा, मैं यह सोच रहा था कि क्या एमबापे स्कूटर चला रहे हैं। वह मैदान पर इतना तेका भाग रहे थे। उरूग्वे के डिफेंडरों को अब एमबापे से भी बड़ा खतरा होगा। हालांकि उरूग्वे अपने अनुभवी डिफेंडरों जोस ग्रिजमैन और डिएगो गोडिन के भरोसे एमबापे और एटलेटिको मैड्रिड के दोस्त ग्रिजमैन की चुनौती को तोडऩे का प्रयास करेगा।  

गोल स्कोरिंग के लिये उरूग्वे को सबसे ज्यादा भरोसा लुईस सुआरेका और एडिसन कवानी की जोड़ी पर है। उरूग्वे ने वर्ष 2010 में विश्वकप सेमीफाइनल तक जगह बनाई थी जो उसका हालिया सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन रहा है और वह निश्चित ही इसे पीछे छोडऩे का प्रयास कर रही है। उरूग्वे ने इससे पहले वर्ष 1930 और 1950 में दो बार विश्वकप खिताब जीता है। 

Source:Agency