Breaking News

Today Click 104

Total Click 3953137

Date 22-10-18

अंबिकापुर में मिले हाथियों के दो दल, रौंद रहे फसल, दहशत में ग्रामीण

By Mantralayanews :09-10-2018 08:03


प्रतापपुर । सिंघरा से धरमपुर के समीप पहुंचे 12 हाथियों के दल में दूसरी ओर से पहुंचे चार अन्य हाथियों ने मिलकर धरमपुर, भरदा, दलदली के कई किसानों की गन्ना, मक्का, धान की फसल को जमकर नुकसान पहुंचाया। इस दौरान तमोर पिंगला क्षेत्र से निकलकर कॉलर आइडी लगे बहरादेव के भी इस दल के समीप पहुंचने की खबर है।

प्रतापपुर वन परिक्षेत्र के अंतर्गत अलग-अलग क्षेत्रों में विचरण कर रहे दो गज दल धरमपुर के समीप सोनहेरा जंगल के समीप एकत्र हो गए हैं, जिसमें कॉलर आइडी लगे बहरादेव के मिलने से इनकी संख्या 17 हो गई है। विचरण कर रहे इस दल ने ग्राम दलदली में दो दिन पूर्व लगभग 31 किसानों की धन फसल को जमकर क्षति पहुंचाई।
वन विभाग से मिली जानकारी के अनुसार इस दौरान इस गज दल ने लगभग 8-10 एकड़ की धान की फसल को क्षति पहुंचाई है, जबकि दूसरी ओर सोनहेरा धरमपुर के समीप ठहरा गजदल धरमपुर निवासी मानसाय, सोनसाय, रंजीत, फुलमेत, संतलाल का लगभग 3-4 एकड़ धान की फसल को नुकसान पहुंचाया।

ग्राम भरदा में भी गज दल ने शंकर, जगमोहन का मक्का, रामशरण, शोभनाथ का धान एवं अहिबरन के गन्ना को नुकसान पहुंचाया है। वन विभाग के अनुसार बीती रात में अलग-अलग विचरण कर रहे दोनों दल एक साथ मिल गए है और 16 हाथियों का दल अब एक साथ विचरण कर रहा है।
खदेड़ने का दावा फेल, लौटा बहेरादेव

कुछ दिन पूर्व बहरादेव के आक्रामक होने पर पूरा वन अमला बहरादेव को तमोर पिंगला अभयारण क्षेत्र में खदेड़ आए थे। उस दौरान विभाग द्वारा ये दावा किया जा रहा था कि अभयारण क्षेत्र में हाथी के लिए अनुकूल वातावरण के साथ चारे की प्रचुरता से हाथी अब गांव की ओर नहीं आएगा, लेकिन कुछ दिनों बाद ही बहरादेव ग्राम सिंघरा में पहुंचे दल के समीप पहुंच गया है।


 

Source:Agency