Breaking News

Today Click 1063

Total Click 3953029

Date 21-10-18

सरकारी योजनाओं का साथ और तकनीकी विकास, किसानों को आ रहा खूब रास

By Mantralayanews :11-10-2018 08:34


भारत का नाम उन विकासशील देशों में शामिल हैं जिनकी जनसंख्या का एक बड़ा हिस्सा कृषि पर निर्भर करता हैं। यही कारण हैं कि दुनिया के नक़्शे पर भारत को एक कृषि प्रधान देश के रूप में देखा जाता हैं। यहां प्राकृतिक संसाधनों की कोई कमी नहीं हैं और आज के तकनीकी युग में कृषि क्षेत्र को एक नई दिशा मिली हैं। जहां औद्योगिक और तकनीकी क्रान्ति ने पूरे देश के विकाश को गति प्रदान की हैं वहीं कृषि क्षेत्र में भी तकनीक का पूर्ण इस्तेमाल देखने को मिल रहा हैं। हालांकि आज भी इस क्षेत्र में कृषि शिक्षा का अभाव, भूमि प्रबंधन, भूमि अधिग्रहण नीति, ख़ास प्रबंधन और ऋण योजनाओं जैसी कुछ खामियां जरूर देखने को मिलती हैं। लेकिन केंद्र व राज्य सरकारों के साथ-साथ कई गैर सरकारी संस्थाएं भी किसानों के उत्थान में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही हैं। किसानों को इन योजनाओं के बारे में पता होना बेहद जरुरी हैं ताकि वह सही मायने में इनका लाभ उठा सकें। किसान सरकारी योजनाओं की जानकारी अपने नजदीकी बैंकों या स्वास्थ्य केंद्रों से भी पता लगा सकते हैं। 

-प्राइवेट संस्थाओं का महत्वपूर्ण योगदान
कृषि क्षेत्र में कई प्राइवेट संस्थाएं सराहनीय काम करने के साथ सरकारों के काम को आसान करने में जुटी हुई हैं। जहां सरकारें विभिन्न योजनाओं के जरिये किसानों को फायदा पहुंचाने का काम कर रही हैं वहीं कुछ संस्थाएं तकनीकी रूप से किसानों की मदद करने में लगी हुई हैं। कृषि क्षेत्र में तकनीक का बखूबी इस्तेमाल ग्रामोफोन मोबाइल एप्लीकेशन के रूप में देखा जा सकता हैं। ग्रामोफोन को किसानों का नया साथी कहा जा रहा हैं क्योंकि यह कई प्रकार से अन्नदाताओं के लिए मददगार साबित हो रहा हैं। ग्रामोफोन के माध्यम से किसान बुवाई के समय से लेकर, फसल की रख रखाव और मंडी के भाव जैसी तमाम जानकारियां हासिल कर सकता हैं।
ग्रामोफोन के संस्थापक तौफिक अहमद खान के अनुसार, “तेजी से बदलती दुनिया में तकनीक का अभूतपूर्व योगदान हैं। कृषि क्षेत्र में भी तकनीक का इस्तेमाल काफी तेजी से किया जा रहा हैं। ग्रामोफोन भी एक ऐसा तकनीकी साधन हैं जिसकी मदद से किसान अपनी फसलों की पैदावार बढ़ाने में सफल हुए हैं। ग्रामोफोन पर कृषि विशेषज्ञों के माध्यम से कृषि संबंधी ढेरों जानकारियां हासिल की जा सकती हैं। साथ ही यह कृषि में उपयोग होने वाले विभिन्न उपकरणों की डिमांड भी पूरी करता हैं।“

- ग्रामोफ़ोन के जरिये लाभान्वित हो रहे किसान
ग्रामोफोन कृषि आधारित एक ऐसा मोबाइल एप्लीकेशन हैं जो महज एक क्लिक पर कृषि संबंधी सभी जानकारियां उपलब्ध कराने की क्षमता रखता हैं। ग्रामोफोन एप हिंदी भाषा में किसानों की हर समस्या का हल बेहद ही सरलतापूर्वक सुझा रहा हैं। इस ऐप की एक ख़ास बात यह भी कि इससे जुड़े टोल फ्री नंबर (1800 315 7566) पर मिस कॉल कर के किसान खेती से जुड़ी अपनी किसी भी जिज्ञासा को दूर कर सकते हैं। 

- किसानों को मिल रहा सरकारी योजनाओं का लाभ
भारत सरकार किसानों की आमदनी बढ़ाने के लिए कई प्रकार की योजनाओं पर काम कर रही हैं। इन योजनाओं के माध्यम से किसानों को हर तरफ से सुदृढ़ और मजबूत बनाने की कोशिश की जा रही हैं। भारत सरकार की कुछ महत्वपूर्ण योजनाओं पर प्रकाश डालें तो इनमें मिट्टी में उपलब्ध छोटे बड़े पोषक तत्वों की पहचान के लिए सॉयल हेल्थ कार्ड, जैविक कृषि को बढ़ावा देने के लिए पारंपरिक कृषि विकाश योजना, सिंचाई क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना, कृषि को राष्ट्रीय स्तर पर ई-विपणन से जोड़ने के मकसद से राष्ट्रीय कृषि विपणन योजना और किसानों को नुकसान से बचाने के लिए प्रधानमंत्री कृषि बीमा योजना जैसी सरकारी योजनाएं किसानों के आत्मबल को बढ़ाने में ख़ास भूमिका निभा रही हैं।
 

Source:Agency