Breaking News

Today Click 392

Total Click 4002842

Date 19-11-18

स्मॉग से बेहद खतरनाक हुई हवा, दिल्ली में हेल्थ इमरजेंसी जैसे हालात

By Mantralayanews :05-11-2018 08:15


नई दिल्ली । दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण की वजह से हेल्थ इमरजेंसी की स्थिति बन चुकी है। सोमवार सुबह स्मॉग ने भी दस्तक  दे दी है। माना जा रहा है कि दिवाली के दिन से स्मॉग से दिल्ली-एनसीआर के हालात और बदतर होंगे। 

स्मॉग में लिपटा दिल्ली-एनसीआर
यहां पर बता दें कि सोमवार सुबह से दिल्ली-एनसीआर में स्मॉग छाया हुआ है। इसके चलते लोगों को सुबह-सुबह सांस लेने में दिक्कतों का सामना करना पड़ा। दिल्ली में कई जगहों पर हवा की क्वॉलिटी खतरनाक स्तर पर पहुंच गई है। हालांकि तापमान गिरने के चलते लोगों का हल्की ठंड का अहसास भी होने लगा है। 

सोमवार सुबह दिल्ली के मंदिर मार्ग इलाके का एयर क्वॉलिटी इंडेक्स 707 दर्ज किया गया, मेजर ध्यान चंद स्टेडियम में हवा की गुणवत्ता 676 रही और जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम की 681। एयर क्वॉलिटी के ये स्तर 'खतरनाक' की कैटिगरी में आते हैं।

दो दिन बाद यानी बुधवार को दिवाली है और उससे महज दो दिन पहले स्मॉग में लिपटी सुबह को लेकर लोग परेशान हैं। पहले ही यह अनुमान जताया जा चुका है कि दिवाली के दिन सबसे खराब हालत होगी, हवा की गुणवत्ता तब तक और खराब हो जाएगी।

लोगों को सांस लेने में परेशानी
स्मॉग के चलते सबसे ज्यादा परेशान बच्चे और बुजुर्ग हैं। स्मॉग उन लोगों को ज्यादा परेशान करता है, जिन्हें सांस की बीमारी यानी अस्थमा आदि होता है। ऐसे लोगों को बाहर निकलते ही दम घुटने जैसा महसूस होने लगता है। विशेषज्ञों के मुुताबिक, अधिक देर तक ऐसी जहरीली हवा में रहने से उनकी हालत और भी खराब हो सकती है।ऐसे में इस जहरीले स्मॉग से बचने के लिए आप मास्क का प्रयोग कर सकते हैं। इसके अलावा आंखों की सुरक्षा के लिए भी आप चश्मे का प्रयोग कर सकते हैं।

रविवार को मिली राहत

हालांकि, लगातार प्रदूषण के कारण सांस लेने में तकलीफ का सामना कर रही दिल्ली को रविवार को दिन में कुछ देर के लिए राहत की सासें नसीब हुई। दिल्ली और आसपास के इलाकों में दिनभर 20 किलोमीटर की तेज रफ्तार से हवा चली जिससे यह स्थिति बनी। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के प्रदूषण मॉनिट¨रग स्टेशन में दोपहर बाद 4 बजे तक एयर क्वॉलिटी इंडेक्स 171 तक दर्ज किया गया। इसके बाद यह बढ़ता चला गया और देर शाम तक 231 पर पहुंच गया। यानी हवा की गुणवत्ता दिन में सामान्य तो शाम में खराब श्रेणी में पहुंच गई। बता दें एयर क्वॉलिटी इंडेक्स शून्य से 50 तक होने पर हवा को अच्छा, 51 से 100 होने पर संतोषजनक, 101 से 200 के बीच सामान्य, 201 से 300 से खराब, 301 से 400 तक बहुत खराब और 401 से 500 के बीच को गंभीर श्रेणी में रखा जाता है।

स्काइमेट के मौसम वैज्ञानिक महेश पलावत ने बताया कि दिल्ली और आसपास के इलाकों में रविवार को दिन लोगों को बढ़ते प्रदूषण से राहत मिली, लेकिन सोमवार के बाद फिर से हवा में प्रदूषित कणों का स्तर बढ़ने की आशंका है। उन्होंने बताया कि रविवार को पूरे दिन 20 किलोमीटर प्रति घंटे की तरफ से हवा चली। इतनी रफ्तार प्रदूषित कणों को वातावरण से आगे पहुंचाने के लिए काफी होती है। इससे पहले 20 दिनों से हवा की रफ्तार काफी कम थी। ऐसे भी दिन आए जब हवा की रफ्तार शून्य के करीब पहुंच गई थी जिससे धूल और धुएं से प्रदूषण काफी बढ़ गया था। साथ ही पराली के जलने से भी आपातकालीन स्थिति में प्रदूषण का स्तर पहुंच गया था। इस तरह कम हुआ प्रदूषण पलावत ने बताया कि पहाड़ों में हाल ही में पश्चिमी विक्षोभ ने दस्तक दी है। इसकी वजह से उतर पश्चिमी दिशा से तेज रफ्तार से हवा दिल्ली की तरफ पहुंची। हवा के कारण ही प्रदूषण का स्तर गिरा। शाम में हवा की गति कम होते ही प्रदूषण फिर से बढ़ने लगा।
 

Source:Agency