Breaking News

Today Click 986

Total Click 4044810

Date 18-12-18

रायपुर : अपोलो अस्पताल की बिजली काटी, एक करोड़ का बिल बकाया

By Mantralayanews :04-12-2018 08:02


भिलाई। बिजली वितरण कंपनी ने सोमवार को कंपनी ने स्मृति नगर स्थित अपोलो बीएसआर हॉस्पिटल का बिजली कनेक्शन काट दिया। इस हॉस्पिटल पर सालभर का एक करोड़ चार लाख रुपए बिजली बिल बकाया है। फिलहाल अस्पताल प्रबंधन जनरेटर से बिजली सप्लाई ले रहा है। स्मृति नगर स्थित अपोलो अस्पताल में भुगतान को लेकर लगातार व्यवस्था सुधरती नजर नहीं आ रही है। अस्पताल प्रबंधन द्वारा सालभर से बिजली कंपनी का बिल का भुगतान नहीं किया है। बिजली कंपनी के अधिकारियों ने बताया कि हॉस्पिटल प्रबंधन द्वारा कुछ दिनों पहले ही शपथ पत्र में आश्वासन दिया था कि 25 लाख रुपए तीन दिसंबर तक जमा करा दिया जाएगा।

इस वजह से बिजली कंपनी ने भी अस्पताल व मरीजों को देखते हुए समय दे दिया था। बावजूद प्रबंधन द्वारा समय पर बिजली बिल जमा नहीं किया गया। इसके कारण आज बिजली कंपनी द्वारा बड़ी कार्रवाई करते हुए हॉस्पिटल का बिजली कनेक्शन काट दिया गया। इससे पहले बिजली कंपनी के एमडी सहित अन्य आला अधिकारियों को इसकी सूचना दी गई।

स्टाफ ने किया था आंदोलन

गौरतलब हो कि आपोलो अस्पताल के कर्मचारियों व डॉक्टरों ने भुगतान के लिए छह दिनों तक बीते सप्ताह आंदोलन किया था। दिसंबर के प्रथम सप्ताह में भुगतान के आश्वासन पर प्रशासन की मध्यस्थता से आंदोलन समाप्त हुआ। वहीं इनका पूरा भुगतान अब तक अस्पताल संचालक ने नहीं किया है। इसके बाद बिजली कंपनी ने पांच बार नोटिस भी अस्पताल संचालक को जारी किया गया।

एक बार पहले भी कटा था कनेक्शन 

बिजली कंपनी ने करीब तीन माह पहले भी अस्पताल का कनेक्शन काटा था। उस समय 42 लाख के लगभग बकाया था। तब 10 लाख का भुगतान के साथ ही शेष राशि जल्द जमा करने संचालक ने शपथ पत्र जमा कराया था। इतना ही नहीं प्रशासनिक स्तर पर रायपुर मुख्यालय से बिजली कंपनी के स्थानीय अधिकारियों को फोन भी संचालक ने कराया था। इसके बाद कनेक्शन उसी दिन जोड़ा गया। इसके बाद से फिर भुगतान में आनकानी कर दी।

हर माह करीब 15 लाख रुपए का बिल 

बिजली कंपनी के अधिकारियों के मुताबिक बीएसआर अपोलो हॉस्पिटल में उच्च क्षमता का कनेक्शन लगा है और कॉन्ट्रैक्ट डिमांड 900 केवीए है। औसतन यहां प्रतिमाह बिजली बिल 15 लाख रुपए आता है। बताया जाता है कि करीब एक साल से बिल का बकाया चल रहा है। दबाव डालने पर बीच-बीच में कुछ राशि का भुगतान अस्पताल प्रबंधन द्वारा कराया गया।
 

Source:Agency