Breaking News

Today Click 1357

Total Click 4042611

Date 16-12-18

पेरिस दंगाः पुलिस की अभूतपूर्व कार्रवाई में153 छात्र गिरफ्तार

By Mantralayanews :07-12-2018 07:31


पेरिस । फ्रांस की राजधानी पेरिस इन दिनों सुलग रहा है। पिछले सप्ताह पेट्रोल-डीज़ल की कीमतों में वृद्धि के बाद यहां हुए हिंसक प्रदर्शनों के बीच अब छात्र भी सड़क पर उतर आए हैं। फ्रांस में शिक्षा सुधार के विरोध में छात्रों का आंदोलन उग्र हो गया है। इस सिललिले में पुलिस ने एक स्कल से 153 छात्रों काे गिरफ्तार‍ किया है। इसमें अधिकतर 12 साल तक के बच्चे शामिल हैं। छात्रों की गिरफ्तारी से फ्रांस सरकार की काफी किरकिरी हो रही है। इस बीच पेरिस से 30 मील की दूरी पर मोंटे-ला-जोली में पुलिस द्वारा छात्रों का उत्‍पीड़न का एक वीडियो वायरल हुआ है।

यह वीडियो काफी खतरनाक है। इस वीडियो में किशोर छात्रों को पेरिस पुलिस ने बंधक बनाकर रखा है। इस वीडियो में छात्रों के हाथों को रस्सियों से बांधा गया है। सभी छात्र घुटने के बल पर बैठे हैं। इन छात्रों का मुंह दीवार की ओर है। फ्रांस की पुलिस हाथ में डंडे लेकर उनकी निगरानी कर रही है। यह वीडियो सोशल मीडिया में खुब वायरल हो रहा है। हालांकि, अभी यह ज्ञात नहीं हो सका है कि मोंटे-ला-जोली में वीडियो किसने शूट किया था। लेकिन इस वीडियो ने फ्रांस की सरकार सकते में है। उसे अत्यधिक शर्मिंदगी का सामना करना पड़ रहा है।

इस बीच गृह मंत्रालय ने कहा है कि गुरुवार को विरोध के सिलसिले में फ्रांस में लगभग 700 स्कूली छात्रों को गिरफ्तार किया गया। सबसे ज्‍यादा गिरफ्तारियां मोंटे-ला-जोली में लाइसी सेंट-एक्सपेरी में हुई है। यहां करीब 153 छात्रों की गिरफ्तारी हो चुकी है। फ्रांस सरकार का कहना है कि छात्रों के इस आंदाेलन के चलते शिक्षा व्‍यस्‍था चौपट हो गई है। गुरुवार को करीब 280 स्कूलों को बंद कर दिया गया, जबकि 45 स्‍कूलों में शिक्षा अवरुद्ध रही। पेरिस में लगातार चल रहे दंगों के बीच यहां के ऐतिहासिक एफ‍िल टावर को बंद कर दिया गया है। इसके अलावा सरकार ने कई और म्यूजियम को भी बंद करने के आदेश दिए हैं। 

फ्रांस की राजधानी पेरिस में पिछले सप्ताह पेट्रोल-डीज़ल की कीमतों में बेतहाशा बढ़ोतरी की वजह से हुए हिंसक प्रदर्शन के बाद फ्रांसीसी सरकार ने पेट्रोलियम टैक्स और कीमतों में बढ़ोतरी का फैसला टाल दिया है। इस फैसले के ज़रिए सार्वजनिक संपत्तियों को नुकसान पहुंचा रहे लोगों को शांत करने की कोशिश की गई। हालांकि, प्रदर्शन करने वाले लोग अपने विरोध को 'पहला कदम' बता रहे हैं और पेट्रोलियम की बढ़ी कीमतों का विरोध जारी रखने की बात कह रहे हैं।  
 

Source:Agency